गाजीपुर- न ट्रांसफार्मर,न तार , न लाईन मैन,और दावा 18घंटे विद्युत देने का

गाजीपुर -उत्तर प्रदेश सरकार के मुखिया का आदेश कहे या दावा कि ग्रामिण क्षेत्रो मे 18 घंटे विद्युत की आपुर्ति हो रही है लेकिन वास्तव मे ग्रामिण क्षेत्रो मे हो रही विद्युत आपुर्ति से ग्रामिण काफी असंतुष्ट है। कहीं 6 घंटे ,कहीं 8 घंटे तो कहीं 10 घंटे ही विद्युत की आपुर्ति हो रही है। उपर से आलम यह है कि गाजीपुर के विद्युत बिभाग के पास न तो ट्रांस्फार्मर है और न ही तार ही है। ग्रामिण क्षेत्र हो या नगरीय इलाका हो , जले हुए ट्रांस्फार्मर को बदलने मे हप्तों का समय लग जा रहा है। गाजीपुर सहित पुरे उत्तर प्रदेश मे लाईन मैनो का भयंकर अभाव है। प्राईवेट लाईन मैनो से बिभाग काम करा रहा है और हर महीना दो से तीन प्राईवेट लाईन मैन को अपनी जान गवानी पड़ती है। ग़ाज़ीपुर पारा विद्युत् ऊपकेंद्र के आस-पास के ग्रामीण इलाकों का तो बुरा हाल है तारो की जर्जर ब्यवस्था से लोगो का जीना मुश्किल हो गया है। आयेदिन कही ना कही फाल्ट से लोग परेशान है। आधी रात को बिजली गुल हो जाती है तो पता नहीं कब आएगी किसी को कोई खबर नहीं होती। लोगो का यही कहना है कि बिजली व्यवस्था को लेकर अखिलेश यादव को घेरने वाली बीजेपी सरकार कही ना कही पिछली सरकारों से भी बिजली को लेकर फ्लॉप साबित हो रही है।