आशा यादव की जीत में किंग मेकर की भूमिका में रहें अंसारी बंधु

गाजीपुर। जिला पंचायत अध्‍यक्ष के उपचुनाव में आशा यादव के जीत के बाद अंसारी बंधुओं की किंगमेकर की भूमिका परम्‍परा कायम रही। राजनैतिक गलियारों में यह चर्चा रहा कि जिला पंचायत अध्‍यक्ष के चुनाव में अंसारी बंधु किंगमेर की भूमिका में हमेशा रहते है। सीमा यादव से लेकर राधेमोहन सिंह, बीना यादव, गीता पासी व वीरेंद्र यादव के जिला पंचायत अध्‍यक्ष बनने में उनकी महत्‍वपूर्ण भूमिका रही है। चाहे वह सपा में रहें हो या न रहें हो। आशा यादव के चुनाव में अफजाल अंसारी ने एक माह पहले ही अपने फाटक पर 42 जिला पंचायत सदस्‍यों की बैठक कर आम सहमति बना ली थी। इसके बाद आशा यादव का नाम जिले में एक मजबूत उम्‍मीदवार के रूप में उभरा। हर चट्टी-चौराहों पर राजनीतिक गलियारों में यही चर्चा थी कि आशा यादव एक मजबूत प्रत्‍याशी है। इसी दबदबें का फायदा आशा यादव को समाजवादी टिकट प्राप्‍त करने में मिला। मतदान के दिन करीब दो दर्जन जिला पंचायत सदस्‍य अफजाल अंसारी के नेतृत्‍व में कचहरी आयें और मतदान किये। अफजाल अंसारी का यह राजनैतिक दांव विरोधियों में यह संदेश दिया कि अंसारी बंधुओं के सहमति के बिना कोई भी जिला पंचायत अध्‍यक्ष की सीट पर नही बैठ सकता है।